Blog

Be Wise

Personality Development Services in Jaipur, Personality Development Classes in Jaipur, Personality Development Institute in Jaipur

आज की बात –  Be Wise – Take Your Decision Judiciously – आपके निर्णय किन बातों पर आधारित होते हैं | बस यूंही अपने निर्णय ले लेते हैं या उसके पीछे के तथ्यों को भी परखते हैं |

 

चलिये एक Example से आपको समझाता हूँ | पशु ( गाय / भैस ) की संख्या पहले की तुलना में बहुत तेजी से घटी है | पशुपालकों की संख्या भी तेजी से घटी है लेकिन मार्किट में दूध और घी की availability पहले से कई गुना बढ़ गयी है ऐसा कैसे संभव है | मुझे याद है बचपन में जब 2 – 3 किलो घी की जरुरत होती थी तो किसी पशुपालक को कई दिन पहले बोलकर छोड़ना पड़ता था फिर भी वो समय पर पूरा घी नहीं दे पता था | गाय / भैसों से अतिरिक्त दूध निकालने के लिये जो Injection लगाये जाते हैं वो भी हमारी सेहत के लिये बहुत ही घातक हैं | आप और हम खुद दूध पी कर / अपने बच्चों को दूध पिला कर / परिवार जनों को दूध पिला कर बहुत खुश होते हैं कि उनके स्वास्थ्य के लिये लाभदायक होगा | आप और हम बडी मेहनत से पैसा कमाते हैं और उन पैसों से अच्छे स्वास्थ्य की जगह हम सफ़ेद जहर खरीद कर लाते हैं | पैसों का भी नुकसान स्वास्थ्य का भी | क्योंकि जितनी मात्रा में बाजार में दूध घी उपलब्ध है वह पशुओं की संख्या से कंही अधिक है |

 

ये तो केवल Example के लिये इस्तेमाल किया है | ऐसे ही हमारी जिन्दगी में बहुत सारे तथ्य होते हैं जिनमे अगर Direct correlation समझेंगे तो समझ आ जायेगा कि कंही कुछ तो गडबड है | जैसे बच्चों के पास कभी आप कोई ऐसी चीज देखते हैं जो आपने नहीं दिलाई और पूछने पर जवाब मिलता है दोस्त की है या उसने दिलाई है तो उस चीज को देखकर समझें | क्या ऐसी चीज दोस्त दे सकता है या दिला सकता है या बच्चा झूठ बोल रहा है |

 

आपको दिल्ली की राजनीती के माध्यम से भी समझाता हूँ | अरविन्द केजरीवाल जी ने बहुत सारे वादे किये चुनाव जीत गये तो ऐसा करेंगे / वैसा करेंगे – जो हर राजनेता करता है और कभी पूरा नहीं करता | जैसे ही 67 / 70 से दिल्ली में चुनाव जीतते हैं मीडिया एक News दिखाती है अरविन्द केजरीवाल के लिये अपने सभी वादे पूरा करना असंभव होगा – इतने कैमरे लगने हैं – इतने दिन लगेंगे – इतने हजार करोड लगेंगे , Free WI – FI , Free Water , Reduced Electricity Bill etc. सब बातों को मिलाकर जो गणित थी वह असंभव सी थी | अगर वही News Media जितने से पहले दिखाती तो क्या होता ?

सच को समझें , परखें तब अपने निर्णय लें – How to improve your Decision Making

Post a Comment

NEWSLETTER

SUBSCRIBE IN OUR NEWSLETTER

X