Motivational Stories

जीत के लिए जिद जरूरी है।

Personality Development Services in Jaipur, Personality Development Classes in Jaipur, Personality Development Institute in Jaipur

दोस्तों मैंने हमेशा एक ही बात की है कि बिना जिद के जीत नहीं और ये बिल्कुल सच है हम सब बड़े - बड़े लक्ष्य बनाते हैं बड़े-बड़े सपने देखते हैं ये सपने किसी भी चीज से संबंधित हो सकते हैं, हम सब लक्ष्य तो बनाते हैं।

पर उसमें उतनी शिद्दत नहीं दे पाते..आईएएस की तैयारी में भी कई छात्र तैयारी तो करते हैं पर उसके साथ वो एक विकल्प भी बचाकर रखते हैं कि अगर वो न हुआ तो ये तो है हमारे पास..

दोस्तों बचपन की एक आदत आती है जब बाजार में किसी खिलौने को देखकर हम सब मचलते थे फिर मम्मी, पापा की मार के बाद भी भूत नहीं उतरता था और जब तक उस चीज को पा नहीं लेते थे, कोशिश करते ही रहते थे ऐसे तो हमारा बचपन ही अच्छा था कम से कम शिद्दत तो थी किसी चीज को हासिल करने की कम से कम हम विकल्प की तलाश तो नहीं करते थे और ना ही कोई सरल रास्ता खोजते थे।

दोस्तों मैं मानता हूं कि आईएएस मुश्किल लक्ष्य है पर नामुमकिन तो नहीं न.. कोई भी चीज अगर आसानी से मिल जाए तो उसे पाने में वह मजा नहीं रहता जो संघर्ष और मेहनत के साथ किसी चीज को पाने में होता है ।

बहुत पहले मैंने एक छोटे से बच्चे को देखा था वह बड़ी देर से पास की एक कील पर एक थैला निकालने का प्रयास कर रहा था पर बच्चे की लंबाई उस कील से काफी कम थी.. मेरे अंदाज में लगभग 3 गुना ऊपर थी कील और उससे छु पाना उसके लिए असंभव था पर इस बात से बिल्कुल बेखबर वो लड़का उचक, उचक कर लगातार प्रयास करता रहा.. जब बार-बार असफल हुआ तो दूसरे कमरे में रखा एक स्टूल ले आया..पर अब भी बात बनी नहीं.. अभी भी थोड़ी ऊंचाई बाकी थी.

लड़का स्टूल पर खड़े होकर फिर उचक कर उसे पाने का प्रयास करता रहा इसी क्रम से कई बार स्टूल का संतुलन बिगड़ा और लड़का जमीन पर गिरा. एक बार तो उसके नाक पर चोट लगी और थोड़ा खून भी निकल आया पर अजीब सी जिद पकड़ रखी थी उठकर वह फिर खड़ा हुआ।

दर्द और खून को नजरअंदाज करते हुए उसने एक बार फिर जोर से प्रयास किया इस बार भी स्टूल गिरा.. और लड़का फिर मुंह के बल जमीन पर था पर इस बार वह खाली हाथ नहीं था। इस बार उसके हाथ में थैला था..

दोस्तों मैं मानता हूं अगर शिद्दत हो कुछ पाने की तो आईएएस तो क्या कोई भी लक्ष्य हासिल किया जा सकता है एक लक्ष्य हो, एक जुनून हो, और थोड़ा हौसला हो, और थोड़ी सी ज़िद हो तो सारी दुनिया आप अपने कदमों में झुका सकते हो....

 

Add Story*
*If you have any motivation story and would like to share with us. We will publish it with your name.

Post a Comment

NEWSLETTER

SUBSCRIBE IN OUR NEWSLETTER

X